The Two Facet World


In your world, people snatch and steal the last morsel.
In my world we share it even when we are starving.
And believe me that shared piece appeases our hunger.

Comments

  1. truly said...they share they care and they sacrifice in whatever little they have...and that too happily and willingly....if only we cud learn...

    ReplyDelete
  2. उन्सठ साल पुरानी चप्पलें
    आज फिर काम पर जा रही हैं
    घिस कर हो चुकी हैं कागज़ सरीखी
    पर लिहाज़ करती हैं 'पहनने वाले का' |

    पिताजी ने आज तय किया है
    दो रोज़ दोपहर का खाना नहीं खायेंगे
    चालीस रूपए कम हैं
    बिटिया को जन्मदिन पर साइकिल दिलानी है |

    माँ ने आज हलवा बनाया था
    सबका हिस्सा लगाया
    उसके हिस्से सिर्फ सौंधी खुशबू ही आ पाई
    वो फिर खुद को गिनना भूल गयी थी |

    दादी को आज पेंशन मिली थी
    पोते को दे दी - कपडे बनवाने को
    आधे दादी की दवाई में खर्च हो गए
    बाकी में जीजी की ओढनी ही आ पाई|

    आज छप्पर पर सावन भी जमकर थिरका
    वो बेतरतीब बस्ती फिर बेदाग़ हो गयी
    मुन्ना की पतंग देखो आसमां छु रही है
    वो इन्द्रधनुष कैसा फीका जान पड़ता है |


    इस बस्ती में मकान कच्चे पर दिल सच्चे हुआ करते हैं
    बड़े तो बड़े ,बच्चे भी 'बड़े' हुआ करते हैं
    दिन की आखिरी धुप भी जब दरवाज़े पर दस्तक देती है
    उसकी खुशामदीद में 'दिए' जला करते हैं |

    सच कहूं तो इन ज़मीन पर सोने वालों के सपने
    बिस्तर पर करवट बदलने वालों से
    जियादा खूबसूरत होते हैं
    पर तमन्नाएं हैं की नसीब का लिहाज़ कर जाती हैं.......

    (wrote this long time before)

    ReplyDelete
  3. Is nadi ki dhaar par, thandi hawa aati toh hai...
    naav jarjar ho sahi; lehron se takraati toh hai..
    Ek chingari kahin se dhoond laao doston;
    IS DIYE MEIN TEL KI BHEEGI HUI BAATI TOH HAI...

    You shall live your world one day....
    Amen.

    ReplyDelete
  4. I agree..the richer a person is,the poorer (stingier) he becomes.He doesn't have the heart to give anything to anyone...even if it is getting wasted.

    ReplyDelete
  5. Richness is sharing.

    Good picture, Good post.

    ReplyDelete
  6. Beautifully expressed the simplicity of the innocent hearts.

    ReplyDelete
  7. that was a beautiful truth simply put.. i was moved

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

The Spell Of December

The Buried Pain